अफ्रीकी देशों में जमीन लेकर खेती कर सकेंगें किसान-CM Manohar Lal

Chandigarh:Haryana में बढ़ते परिवारों के चलते घटती जोत से निपटने के लिए प्रदेश सरकार किसानों को अफ्रीकी देशों में जमीन लेकर खेती करने के लिए प्रोत्साहित करेगी। किसानों को कृषि भूमि उपलब्ध कराने के लिए लिए, अफ्रीकी देशों से बात हुई है। किसान वहां जाकर खेती कर सकें, इसके लिए सरकार योजना बना रही है।

DRM Manish Tiwari ने सिटी Station के पुनर्विकास कार्यो का किया निरीक्षण

Fastnewstoday-Manohar Lal ने बताया कि पराली से बिजली बनाने के लिए Kurukshetra, Kaithal, Fatehabad एवं Jind में बायोमास परियोजनाएं शुरू की गई हैं जिनसे 30 मेगावाट विद्युत उत्पन्न हो रही है। पराली का उपयोग जैव ईंधन बनाने में भी किया जा रहा है। Panipat रिफाइनरी में 2जी के बाद अभी 3जी प्लांट भी लग गया है।

किसान कल्याण की योजनाएं साझा करते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि पिछले साढ़े नौ वर्षों में प्रदेश सरकार की ओर से किसानों को 11 हजार करोड़ रुपये मुआवजा दिया गया है, जिसमें पिछली सरकार की बकाया 269 करोड़ रुपये की मुआवजा राशि भी शामिल है। इस साल बाढ़ प्रभावित किसानों को 112 करोड़ रुपये मुआवजा दिया गया है।

युवाओं के लिए मौका,Income Tax, Tax असिस्टेंट, स्टेनोग्राफर जैसे पद…..Job

Fastnewstoday-Manohar Lal  ने शनिवार को विशेष चर्चा कार्यक्रम के तहत किसानों से आडियो संवाद में कहा कि रोटावेटर और आलू बिजाई की मशीन पर भी किसानों को सब्सिडी दी जाएगी। सात दिन के अंदर दोनों मशीनें सब्सिडी योजना की लिस्ट में शामिल कर दी जाएंगी।

2जी इथेनाल प्लांट में पराली की खपत सुनिश्चित करने के लिए 1000 रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। गोशालाओं में पराली की खपत को प्रोत्साहित करने के लिए 500 रुपये प्रति एकड़ की दर से अधिकतम 15 हजार रुपये प्रोत्साहन राशि देने का प्रविधान किया गया है। प्रदेश में पराली जलाने के मामलों में Haryana में 36.4 प्रतिशत की कमी आई है, जबकि Punjab में 27.1 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है।

ये भी पढ़े…. CM Bhajanlal Sharma शपथ ग्रहण के कुछ ही घंटे बाद एक्शन में नजर आए

प्रदेश में कई दिनों से CM को लेकर ‘राजनीति के रथ’ में मचा हुआ सियासी घमासान आखिरकार खत्म हो गया है । ऐसे में उन्होंने पेपर लीक माफिया और Gangster के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के आदेश दिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »