दुधारू और पालतू पशुओं को पशुपालकों के घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल की शुरू-Haryana

घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल की शुरू

Haryana: पूरे देश में जिस Haryana की पहचान उसके पालतू से है, उनके इलाज के लिए प्रदेश दुधारू पशुओं सरकार काफी फिक्रमंद हो गई है। दुधारू और पालतू पशुओं को पशुपालकों के घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल शुरू की है। इसके लिए सरकार करीब 200 पशु चिकित्सा एंबुलेंस का इंतजाम करने जा रही है। इनमें से 70 पशु चिकित्सा एंबुलेंस खरीदी जा चुकी हैं और 130 खरीदे जाने की योजना है।

Rahul Gandhi अब निकालेंगे भारत न्याय यात्रा-Congress

Fastnewstoday Haryana इन पशु चिकित्सा एंबुलेंस को राज्य के सभी 22 जिलों में रखा जाएगा, जिनका फायदा यह होगा कि जिस भी जिले-ब्लाक-गांव में पशुपालकों को अपने पशुओं के इलाज के लिए डाक्टरों की जरूरत होगी, वे केंद्रीयकृत काल सेंटर में फोन करेंगे।

घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल की शुरू
घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल की शुरू

संबंधित जिले की चिकित्सा वैन के पास संदेश चला जाएगा, जो तुरंत संबंधित गांव में पशुपालक के घर जाकर बीमार पशुओं का इलाज कर सकेगी। यह केंद्रीयकृत काल सेंटर हिसार में बनाया गया है, जिसका टोलफ्री नंबर 1962 निर्धारित किया में गया है। यह काल सेंटर ठीक उसी तरह से काम करेगा, जिस तरह से न राज्य पुलिस की डायल 112 सेवा न काम करती है।

Fastnewstoday पशुपालकों को उनके र पशुओं के घर पर ही इलाज होने र की राज्य सरकार की यह योजना र काफी पसंद आ रही है, साथ ही उनका कहना है कि योजना के सही क्रियान्वयन के लिए पशुपालन विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी व जवाबदेही दोनों तय की जानी चाहिए। कृषि एवं पशुपालन मंत्री जेपी दलाल की योजना को शुरू करने को लेकर मुख्यमंत्री मनोहर लाल से वार्ता होने वाली है।

घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल की शुरू
घर पर ही अच्छा इलाज उपलब्ध कराने के लिए राज्य सरकार ने बड़ी पहल की शुरू

PM Modi भी आपके परिवार का है। आपको किसी और से पहचान की जरूरत नहीं-India

उम्मीद की जा रही है कि नया साल शुरू होते ही राज्य सरकार के पास पहुंच चुकी 70 पशु चिकित्सा एंबुलेंस को आरंभ कर दिया जाएगा, जबकि बाकी 130 पशु चिकित्सा एंबुलेंस को खरीदने की प्रक्रिया आरंभ कर दी जाएगी। प्रत्येक एंबुलेंस को जीपीएस के साथ जोड़ा जाएगा। पशुपालकों को अपने पशुओं के इलाज के लिए काल सेंटर पर सिर्फ एक फोन करना होगा। उनके फोन के बाद गांव में एंबुलेंस पहुंचेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »