शीतकालीन सत्र में सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों में जमकर हंगामा होने के आसार-Haryana

Haryana विधानसभा के शुक्रवार से आरंभ हो रहे शीतकालीन सत्र में सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों में जमकर हंगामा होने के आसार हैं।

विधानसभा स्पीकर डा. ज्ञानचंद गुप्ता ने जहरीली शराब से हुई मौतें, फसलों का मुआवजा मिलने में देरी तथा राज्य की बिगड़ती कानून व्यवस्था समेत विभिन्न मुद्दों पर दिए गए विपक्ष के काम रोको प्रस्तावों को सचिवालय को रद कर दिया।

Whatsapp ने किया नया feature लॉन्च किया

Fastnewstoday विधानसभा शीतकालीन सत्र में उठाने के लिए विपक्ष की ओर से अभी तक 49 ध्यानाकर्षण प्रस्ताव मिले हैं। विधायकों ने दो गैर सरकारी बिल, एक अल्पकालीन चर्चा बिल और 383 सवाल सरकार से जवाब के लिए दिए हैं। विधानसभा में तीन दिन की सत्र की कार्यवाही के लिए लाटरी सिस्टम से विधायकों के सवालों का चयन कर लिया है।

गोहाना के कांग्रेस विधायक जगबीर मलिक ने विधानसभा में सरकार से पूछा है कि साल 2015 से अब तक • राज्य में भ्रष्टाचार के विभागवार मामलों का ब्योरा क्या है।

पृथला के निर्दलीय विधायक नयनपाल रावत ने जानना चाहा है कि क्या सरपंच और ग्राम पंचायतों की शक्तियां बढ़ाने का कोई प्रस्ताव सरकार के विचाराधीन है। क्या यह तथ्य सही है कि सरपंच और ग्राम पंचायतों को पांच लाख रुपये वार्षिक यानी 25 लाख रुपये के काम कराने का अधिकार अपने स्तर पर है।

Canada के सपने अब हो गए ज्यादा महंगे

Fastnewstoday मुलाना के कांग्रेस विधायक वरुण चौधरी ने एससी-एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम के तहत नियमित रूप से बैठकें नहीं बुलाने का कारण सरकार से पूछा है। सोनीपत के कांग्रेस विधायक सुरेंद्र पंवार ने सरकार से पूछा है कि सोनीपत में मेटरो रेल कब तक आएगी।

ऐलनाबाद के इनेलो विधायक अभय सिंह चौटाला ने पिछले चार साल में विभिन्न विभागों, बोर्ड एवं निगमों में पंजीकृत भ्रष्टाचार के मामलों की पूरी जानकारी मांगी है।

फरीदाबाद एनआइटी के कांग्रेस विधायक नीरज शर्मा ने सरकार से जानना चाहा है कि जनसंवाद कार्यक्रमों में क्या संबंधित है क्षेत्र के विधायक को बुलाया जाता और उसके आयोजन पर होने वाला खर्च कौन वहन करता है।

Palwal में सड़क हादसा, दो भाइयों की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »