Haryana नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण- JJP

नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण

Haryana: नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण किया • जा रहा है। जल्द ही बाईपास की सौगात देकर कस्बे की दशा बदलने का काम किया जाएगा। उपमुख्यमंत्री Dushyant Chautala ने कस्बे की अनाज मंडी में JJP पार्टी के कार्यालय का उद्घाटन करने के उपरांत कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहे।

India सरकार चाहती है कि स्वास्थ्य Insurance सबके पहुंच में हो

Fastnewstoday उन्होंने कार्यालय में शुक्रवार के दिन जुलाना हलके से विधायक Amarjeet Dhanda की बैठने की ड्यूटी लगाई। साथ में जिलाध्यक्ष Amit Bura बाकी दिन कार्यालय को संभाल कर लोगों की समस्याओं का निवारण करेंगे। उन्होंने बताया कि इस कार्यकाल में 150 करोड़ रुपये से सड़कें और अलग-अलग बिल्डिंग बन चुकी है। विकास कार्यों के लिए 105 करोड़ रुपये के एस्टीमेट बन चुके हैं।

नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण
नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण

जिन पर जल्द काम शुरू हो जाएगा। गांव डाटा में महिला कालेज की बिल्डिंग जल्द बननी शुरू होगी। जिसकी प्रशासनिक मंजूरी मिल चुकी है। अगले साल जनवरी तक 70 हजार से एक लाख नौकरियों की भर्ती की जाएगी। बारिश के समय खेतों में जमा होने वाले पानी की निकासी का स्थाई समाधान करवाने का भी आश्वासन दिलवाया।

नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण
नारनौंद हलके में 92 करोड़ से अलग- अलग सड़कों का निर्माण

2023 के दौरान छोटे शेयरों ने निवेशकों की जमकर हुई कमाई-India

Fastnewstoday इस अवसर पर पार्टी के अध्यक्ष सरदार निशान सिंह, विधायक अमरजीत ढांडा, जिला अध्यक्ष अमित बुरा, हलका प्रधान ईश्वर सिंघवा, सुभाष बेरवाल, धर्मवीर सिहाग, अमरजीत मालिक, अनिल दुहन, कुलबीर ढिल्लू, संदीप काला, ओम प्रकाश खरबला, सेवापति, सजनी देवी, योगेश गौतम, एडवोकेट प्रदीप लोहान, रविंद्र सैनी, सरपंच बलजीत, रामकुमार भट्ट, सहदेव यादव, इत्यादि विशेष तौर पर मौजूद थे।

ये भी पढ़े….. Bank और कारपोरेट सेक्टर के बीच कारोबारी रिश्तों को लेकर कुछ कदम उठाने के संकेत-RBI

INDIA बड़े कारपोरेट घरानों को Bank लाइसेंस देने का मामला भले ही आरबीआइ ने ठंडे बस्ते में डाल दिया हो लेकिन इसे लंबे समय तक टाला नहीं जा सकता है। RBI ने हाल ही में जिस तरह से बैंकों और कारपोरेट सेक्टर के बीच कारोबारी रिश्तों को लेकर कुछ कदम उठाने के संकेत दिए हैं, उसे भविष्य की तैयारी के तौर पर देखा जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Translate »